Posts

Showing posts from March, 2011

DU की अध्यापिका के साथ छेड़-छाड़ और यौन उत्पीडन

Press Release, New Delhi, March 19
DU की अध्यापिका के साथ छेड़-छाड़ और यौन उत्पीडन, दिल्ली पुलिस का दोषियों के प्रति नरम रवैया
दिल्ली विश्वविद्यालय के अध्यापिका के साथ होली से दो दिन पहले Model Town में छेड़-छाड़ और यौन उत्पीडन की घटना हुई है. करीब 12 लड़कों ने इस महिला के साथ अभद्र गालियाँ दी, और 'तेरे साथ आज यहीं हैप्पी होली करेंगे' कहकर यौन हिंसा की धमकी भी दी. महिला के प्रतिरोध करने पर उनपर हाथ भी उठाया. 
दिल्ली पुलिस द्वारा दोषियों के प्रति नरम रवैय्या रहा और मामले को रफा दफा कराने की पूरी कोशिश की और महिला को हतोत्साहित किया. घटना स्थल पर पुलिस की गाडी 25 मिनट के बाद पहुंची. शीला दीक्षित का कहना था की दिल्ली के नागरिक महिला उत्पीडन के खिलाफ आवाज़ नहीं उठाते. पर इस घटना में जब दिल्ली पुलिस देर सवेर मौके पर पहुंची तब पुलिस ने सबसे पहले महिला की मदद में पहुंचे मित्रों को ही गिरफ्तार करने की कोशिश की. वजह पूछे जाने पर उन्होंने महिला से कहा की 'आपने उन लड़कों पर हाथ क्यों उठाया?' PCR van तो 3 बार फ़ोन करने के बाद भी 25 मिनट बाद पहुंची, अगर उस महिला के मित्र समय पर न पहुं…

हिरासत में मनाया अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस

उत्तर प्रदेश में महिलाओं ने पुलिस हिरासत में मनाया अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस  देवरिया और पीलीभीत में ऐपवा कार्यकर्ता गिरफ्तार की गईं
उत्तर प्रदेश में अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला एसोसिएशन (ऐपवा) की सैकड़ों कार्यकर्ता आठ मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर गिरफ्तार कर ली गईं और उन्होंने पुलिस हिरासत में ही महिला दिवस मनाया।
देवरिया और पीलीभीत में महिलाओं को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने से रोका गया और जुलूस निकालने पर गिरफ्तार कर लिया गया। जबकि लखीमपुर खीरी में मार्च निकालने के लिए महिलाओं को पुलिस से संघर्ष करना पड़ा।
पीलीभीत में गिरफ्तार ऐपवा की कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने आईपीसी की 341, 342, 353 आदि कई धाराओं में फर्जी मुकदमे कायम कर दिये और माले की राज्य स्थायी (स्टैन्डिंग) समिति के सदस्य अफरोज आलम की पिटायी की। महिला कार्यकर्ताओं को पंद्रह-पंद्रह हजार की जमानतें देने के लिए कहा गया। तीन दिन के भीतर जमानतें नहीं भरने पर महिलाओं को जेल जाने को तैयार रहने को कहा गया है।
भाकपा (माले) और ऐपवा ने महिलाओं की गिरफ्तारी और माले नेता को पीटने की कड़ी निंदा की है। पार्टी ने इन घटनाओं पर प…

Women in the Middle East movements

Image
For reflection: The Middle East feminist revolution Women are not merely joining protests to topple dictators, they are at the centre of demanding social change. [Naomi Wolf, 04 Mar 2011 17:23 GMT]Women supporting women inevitably leads to women supporting revolution. In Tunisia and Tahrir Square, women were at the front and centre of organising and leading protests, demanding social change. [GALLO/GETTY]
Among the most prevalent Western stereotypes about Muslim countries are those concerning Muslim women: doe-eyed, veiled, and submissive, exotically silent, gauzy inhabitants of imagined harems, closeted behind rigid gender roles. So where were these women in Tunisia and Egypt?
In both countries, women protesters were nothing like the Western stereotype: they were front and centre, in news clips and on Facebook forums, and even in the leadership. In Egypt's Tahrir Square, women volunteers, some accompanied by children, worked steadily to support the protests – helping with security, c…

Indian men lead in sexual violence, worst on gender equality: Study

For reflection... Indian men lead in sexual violence, worst on gender equality: Study
March 9, 2011 by Neha Bhayana, TNN Source:timesofindia.indiatimes.com
Mar 7, 2011, NEW DELHI: Nearly one in four Indian men has committed sexual violence at some point in their lives and one in five has admittedly forced his wife or partner to have sex. The findings of a recent International Men and Gender Equality Survey reflects a new low for Indian men. Only 2% Brazilian males and less than 9% of men in Chile, Croatia, Mexico and Rwanda were found to have indulged in sexual violence.

The survey was conducted in six developing countries across four continents to map attitudes and practices related to gender equality. Researchers from the International Centre for Research on Women ( ICRW in US and India) and Instituto Promundo in Brazil, who led the survey, interviewed more than 8,000 men and 3,500 women, aged 18 to 59, from these countries.

Indians, who are known to excel in competitive examinations gl…

33 प्रतिशत आरक्षण बिल पास करो ! - एपवा

International Women's Day - 100 Years

Image
Why is the UPA Govt. not passing 33% Reservation Bill?
Why delay in introducing laws against Sexual Harassment and Sexual Assault? 

Why does Sexual Harassment Bill exclude domestic workers and have discriminatory provisions like punishment for ‘false complaints’?
Why does the Budget have crores for corporates but dearth of funds for women’s nutrition and maternal health?


To mark 100 years of International Women's Day, women workers, students and professionals held a March and Public Meeting at Jantar Mantar (Parliament Street). The March was decorated with colourful banners and placards, and women raised slogans against discrimination, violence and oppression on women.
AIPWA observed 100 years of Women's Day all over the country, to remind that it was women workers of many countries, under the banner of revolutionary left organisations, who first began celebrating International Women's Day in 1911, demanding rights and equality at the workplace and the right to vote.